कोरोना महामारी: आर्थिक चुनौतियां एवं संभावित उपाय

  • डॉ. चेतन जोशी सहायक प्राध्यापक (वाणिज्य), श्री वैष्णव वाणिज्य महाविद्यालय, इंदौर
  • डॉ. परितोष अवस्थी प्राचार्य, श्री वैष्णव वाणिज्य महाविद्यालय, इंदौर

Abstract

सारांश - वर्ष 2020 के प्रारम्भ होने से पहले ही वैश्विक स्तर पर एक ऐसे रक्तबीज ने जन्म ले लिया था जिसे आज पूरा विश्व कोविड - 19 महामारी के नाम से जान रहा है। यह इस सदी की ऐसी भयावह त्रासदी है जिससे दुनिया के २१० से अधिक देश प्रभावित है और एक अनुमान के अनुसार लगभग 1 करोड़ से अधिक लोग इससे संक्रमित होंगे साथ ही लगभग 5 लाख लोगों के असमय काल के गाल में समा जाने का भी आंकलन किया गया है। संपूर्ण मानव जाति के लिए यह रहस्यमय महामारी एक ऐसी चुनौती के रूप मे उभर कर सामने आई है जिससेना केवल सामाजिक, मानसिक धनबल का हास होगा अपितु राजनैतिक, आर्थिक, औद्योगिक, सामरिक, कृषि, चिकित्सकीय, उद्यमिता आदि क्षेत्रों मे भी क्षति होना अवश्यम्भावी हैं। भारत के सम्बन्ध में इस महामारी से निपटना चुनौतीपूर्ण होगा वही यह वैश्विक स्तर पर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए नए द्वार भी खोल देगी। कोविड 19 की इस वैश्विक महामारी से उपजने वाले परिणामो की संभावनाओं का आंकलन एवं विश्लेषण करने का प्रयास इस शोध पत्र में किया गया है। मुख्य शब्द - कोविड 19, भारत, मध्य प्रदेश, चुनौतियां एवं अवसर, अर्थव्यवस्था।
How to Cite
डॉ. चेतन जोशी, & डॉ. परितोष अवस्थी. (1). कोरोना महामारी: आर्थिक चुनौतियां एवं संभावित उपाय. ACCENT JOURNAL OF ECONOMICS ECOLOGY & ENGINEERING ISSN: 2456-1037 INTERNATIONAL JOURNAL IF:7.98, ELJIF: 6.194(10/2018), Peer Reviewed and Refereed Journal, UGC APPROVED NO. 48767, 5(5). Retrieved from http://www.ajeee.co.in/index.php/ajeee/article/view/70